आतंकियों ने बनाई थी लिस्ट , 40 लोगों को ट्रेनिंग देकर कन्हैयालाल जैसा करना था हाल, खौफनाक साजिश रूह कंपाने वाली

0
69

आतंकियों ने बनाई थी लिस्ट , 40 लोगों को ट्रेनिंग देकर कन्हैयालाल जैसा करना था हाल, खौफनाक साजिश रूह कंपाने वाली

जयपुर:उदयपुर में हुए कन्हैयालाल साहू हत्याकांड (Kanahiya lal udaipur ) से जुड़ी चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है। एनआईए (NIA) सूत्रों के मुताबिक आतंकियों के निशाने पर केवल कन्हैया लाल साहू ही नहीं बल्कि वे सभी लोग थे। जिन्होंने नूपुर शर्मा का समर्थन किया था। गिरफ्तार किए गए आरोपियों से पूछताछ में पता चला है कि आतंकियों ने नूपुर शर्मा का समर्थन करने वाले सभी लोगों के सिर कलम करने की तैयारी कर ली थी। तालिबानी तरीके से गला काटने के दौरान वीडियो बनाने और दहशत फैलाने के लिए उसे वायरल करना भी प्लान का हिस्सा था।

आतंकियों की इस गैंग ने राजस्थान के उन सभी लोगों की लिस्ट बनाई थी, जिन्होंने सोशल मीडिया पर नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट की थी। अलग अलग लोगों की हत्या के लिए अलग अलग आतंकियों को जिम्मेदारी दी गई थी ,लेकिन कन्हैयालाल की हत्या के 4 घंटे बाद ही हत्यारे मोहम्मद रियाज अत्तारी और गौस मोहम्मद की गिरफ्तारी हो गई। पुलिस और इंटेलिजेंस एजेंसियां एक्टिव हो गई। इस वजह से आतंकी अन्य वारदातों को अंजाम नहीं दे सके।

राजस्थान के 40 लोगों को दी गई आतंक की ऑनलाइन ट्रेनिंग
भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा के विवादित बयान के बाद सोशल मीडिया पर कई पोस्ट वायरल हुई। पाकिस्तान के दावत ए इस्लामी संगठन ने नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट करने वालों को टारगेट किया। उन्हें सबक सिखाने और दहशत फैलाने के लिए आतंकी घटनाओं को अंजाम देना तय किया। हत्या की वारदातों को अंजाम देने के लिए राजस्थान के 6 जिलों में रहने वाले 40 लोगों को तैयार किया गया।

पाकिस्तान के कई सोशल मीडिया ग्रुप भी वीडियो हुए थे वायरल
दावत ए इस्लामी संगठन की ओर से आतंकी घटनाओं के लिए तैयार होने वाले लोगों को ऑनलाइन ट्रेनिंग दी गई। उन्हें बताया गया कि किस तरह से तालिबानी तरीके से हत्या की वारदात को अंजाम देना है। वारदात के दौरान वीडियो शूट करना है और उसके बाद वीडियो को सोशल मीडिया पर वायरल करना है। दावत ए इस्लामी संगठन से जुड़े आतंकी एक दूसरे से संपर्क में थे। कन्हैया लाल की हत्या का वीडियो भी सोशल मीडिया के जरिए दावते इस्लामी संगठन से जुड़े सभी लोगों के पास पहुंच गया था। बताया जा रहा है कि पाकिस्तान के कई सोशल मीडिया ग्रुप में भी वह वीडियो वायरल हुआ था।

Copy

मोहम्मद रियाज और गौस के मोबाइल में कई पाकिस्तानी नंबर मिले
कन्हैया लाल का सिर धड़ से अलग करने वाले मोहम्मद रियाज अत्तारी और गौस मोहम्मद के मोबाइल खंगालने पर चौंकाने वाली जानकारी सामने आई। एनआईए सूत्रों के मुताबिक अत्तारी और गौस के मोबाइल में कई पाकिस्तानी मोबाइल नंबर सेव थे। पिछले 1 साल से वे पाकिस्तानी मोबाइल नंबर पर लगातार बातचीत करते थे। मोहम्मद रियाज तारीख और गौस मोहम्मद पिछले 1 साल से दावत ए इस्लामी संगठन से जुड़े थे। इसके बाद उन्होंने राजस्थान के जिलों के युवकों को दावत ए इस्लामी संगठन से जोड़ा। एनआईए की टीम कन्हैया लाल साहू हत्याकांड से जुड़े सात आतंकियों को गिरफ्तार कर चुकी है। आतंकियों के पूरे नेटवर्क का पता लगाने के लिए एनआईए की धरपकड़ अभी भी जारी है।
रिपोर्ट:-रामस्वरूप लामरोड़

राजस्थान की और समाचार देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Rajasthan News