‘अशोक गहलोत और सचिन पायलट कांग्रेस के लिए संपति नहीं, विपत्ति हैं’, बीजेपी ने किया तंज

0
160

‘अशोक गहलोत और सचिन पायलट कांग्रेस के लिए संपति नहीं, विपत्ति हैं’, बीजेपी ने किया तंज

जयपुर: कांग्रेस की गुटबाजी पर भाजपा के नेता भी तंज कसने से नहीं चूक रहे। मंगलवार 29 नवंबर को केसी वेणुगोपाल ने अशोक गहलोत और सचिन पायलट को एकजुट दिखाने के लिए हाथ पकड़ कर खड़े करवाए। यह बताया गया कि कांग्रेस में कोई गुटबाजी नहीं है। इस पर बीजेपी के प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह ने कहा कि राहुल गांधी ने गहलोत और पायलट को कांग्रेस के ऐसेट बताया। ये ऐसेट नहीं बल्कि लाइबिलिटी है। ये नेता कांग्रेस के लिए संपति नहीं, बल्कि विपत्ति हैं क्योंकि राजस्थान में जंगल राज चल रहा है। यहां महिलाओं पर अत्याचार लगातार बढ़ रहे हैं। बीजेपी के प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह ने कहा कि राजस्थान की सीमा में आने से पहले राहुल गांधी जनता के सवालों का जवाब साथ लेकर आएं। कांग्रेस को सत्ता में आए हुए चार साल हो गए हैं और जनता से किए गए वादों को कांग्रेस ने भुला दिया है।

नौकरी के लिए तरस रहे युवा बेरोजगार : अरुण सिंह

अरुण सिंह ने कहा कि युवा बेरोजगार नौकरी के लिए तरस रहे हैं। बेरोजगारों को भत्ता नहीं मिल रहा है। किसान कर्ज माफी का इंतजार कर रहे हैं। कांग्रेस ने बिजली के दाम नहीं बढ़ाने का वादा किया था, जबकि पिछले 4 साल में 9 बार बिजली के दाम बढ़ाए गए। डीजल और पेट्रोल भी सबसे महंगा राजस्थान में ही मिल रहे हैं। राहल गांधी को इन सब सवालों के जवाब साथ लेकर आना होगा।

‘चुनावी चेहरा घोषित करना संसदीय बोर्ड का काम’

जयपुर में मीडिया से बात करते हुए अरुण सिंह ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी पूरी तरह एकजुट है, जो गुटबाजी की खबरें सुनी जा रही है, वे सिर्फ मीडिया की देन हैं। रथयात्रा की रवानगी के दौरान पार्टी के तमाम नेता शामिल हुए हैं। एकजुटता नहीं होती तो कांग्रेस की तरह बिखराव और आरोप प्रत्यारोप नजर आते। आगामी विधानसभा में चुनावी चेहरे से जुड़े सवाल पर अरुण सिंह ने कहा कि यह काम संसदीय बोर्ड का है और बोर्ड समय पर उचित निर्णय लेगा।

रथयात्रा के जरिए प्रदेशवासियों से लेंगे शिकायतें: अरुण सिंह

जन आक्रोश यात्रा के तहत प्रदेश की सभी 200 विधानसभाओं में रथ यात्राएं निकाली जाएंगी। गुरुवार 1 दिसंबर को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने हरी झंडी दिखाकर रथ कों रवाना किया। अरुण सिंह ने कहा कि जन आक्रोश यात्री कुल 75 हजार किलोमीटर चलेगी। इस दौरान 20 हजार चौपालों का आयोजन किया जाएगा। हर रथ के साथ शिकायत पेटियां रखी जाएंगी और सरकार के खिलाफ शिकायतें मांगी जाएंगी। बाद में सारी शिकयतों को एकत्रित करके ट्रक भरकर अशोक गहलोत के बंगले भेजेंगे। (रिपोर्ट- रामस्वरूप लामरोड़, जयपुर)

राजस्थान की और समाचार देखने के लिए यहाँ क्लिक करे – Rajasthan News